image-1 image-CUET22 image-0 image-2 image-CUET
You are here: Home > Press Release > Press Release -September 12, 2022

Common Seat Allocation System 2022 | CSAS Registration Link 2022

 

DU Vice Chancellor Prof. Yogesh Singh launched CSAS-2022 portal

Admission will be done in 79 UG programs of 67 colleges, admission process will run in three phases

 

New Delhi, 12 September.

University of Delhi has launched the portal for admission through CUET test in its UG programs for academic level 2022-23. On Monday, DU Vice Chancellor Prof. Yogesh Singh, while launching the CSAS-2022 (Allocation-cum-Admission Policy) portal, informed that this year admissions are to be done in 79 UG programs across 67 colleges/departments/centres, which includes 206 combinations for BA programme as well. Vice Chancellor Prof. Yogesh Singh, speaking to reporters on the occasion, said that about 6 lakh 14 thousand students from across the country have included DU in their preferred University. He informed that CSAS-2022 will be conducted in three phases in which first phase will be to apply to University of Delhi, second phase will be preference filling and third phase will be seat allotment-cum-admission.

 

While launching the CSAS-2022 portal, the Vice Chancellor said that the registration process has started from today. He told that it will be our endeavor that two more allotment rounds should be kept before the spot round so that any aspiring student does not face any problem. He called upon the applicants to fill as many choices as possible so that they do not face any problem in allotment of the colleges and subjects of their choice. He said that we have designed the policy in such a way that the hassles can be minimized, yet we have also made provision for mid-entry admissions so that the applicants who have been left out due to some reason can also get a chance.

 

The Vice Chancellor said that the trials for ECA and sports quota students are likely to be held after October 10 and classes for the students will most likely start from November 1. In response to a question, he said that the university administration is completely sensitive to the issue of admissions of the reserve category, that is why a provision of 30 percent additional admissions has been kept in reserved category seats in the first round itself. On this occasion, Dr. Vikas Gupta, Registrar, University of Delhi, Dean Admission Prof. Haneet Gandhi and PRO Anoop Lather were present with him.

 

On this occasion, Dean Admission, University of Delhi, Prof. Haneet Gandhi gave detailed information about the admission process. She said that under the first phase, a one-time application fee of Rs 100 for SC, ST and PWBD category applicants for CSAS-2022 and Rs 250 for UR, OBC-NCL, EWS category will have to be paid which will be non-refundable. Candidates willing to take admission in Delhi University will have to apply through CSAS-2022 application form only. The application number of CUET (UG)-2022 will be mandatory to apply for CSAS-2022. The personal details such as name, photograph and signature etc. submitted by the applicant during CUET (UG)-2022 will be automatically integrated in CSAS-2022.

She said that candidates should be careful in submitting their personal details, categories/sub-categories/caste as these details once submitted cannot be changed. All communication from University of Delhi will be done only on the email id filled in the CSAS-2022 application form. Candidates will also have to submit the marks of all the subjects in which they have passed class XII. Candidates should be very careful while filling the marks of class XII because if there is a merit tie then these marks will be the basis for breaking it.

 

Prof. Gandhi informed that the second phase of CSAS will start after the declaration of result of CUET (UG)-2022. In this step, candidates will have to select their program and college combination and fill their preferences. The order of selection of program and college combination will also determine the order of preference for allotment of seats. Therefore, the candidate should carefully prioritize the program and college combinations in order of preference. Finally, candidates have to confirm the order of preference for the program and college combinations by clicking 'Submit' on or before the last day of preference filling phase. Change of program and college combination merit list will not be allowed after the deadline.

 

Once a seat is allotted in a particular round, the candidate has to 'accept' the seat allotted to him/her before the specified last date/time for the given allotment round. The provision for acceptance of a particular allotted seat will be valid only for the round in which the seat was allotted to the candidate. There shall be no action taken in case the allotted seat is non-accepted by the candidate. This will be treated as a decline in the provisionally allotted seat and the candidate will no longer be able to participate in the subsequent rounds of CSAS-2022. If a candidate is offered multiple seats in a particular round, he/she should accept only one seat. Once the candidate "accepts" the provisionally allotted seat, the concerned college will check the eligibility and documents uploaded by the candidate. After verification, the college will 'accept' or 'reject' the provisionally allotted seat of the candidate. Once the college is approved, the candidate has to pay the 'admission fee'. Successful remittance of admission fee will confirm the provisional admission of the candidate to the allotted college and program.

Depending on the availability of seats vacant due to rejection, cancellation and withdrawal, the university may declare multiple allotment rounds. The university will display the vacant seats on its admission website (admission.uod.ac.in) before each allotment round. All the candidates who have applied for CSAS-2022 will be eligible for all the allotment rounds except those applicants whose allotted seat/admission has been cancelled due to any reason. Candidates who opt for "Upgrade" will be considered in subsequent CSAS-2022 allotment rounds as per the availability of seats. University has also made such provision through which applicants can answer any query raised by the college during approval.

 

The upgraded candidate will have to 'accept' the upgraded seat and complete the admission process at the upgraded allotted seat. If a candidate does not perform any activity on the upgraded seat, it will be treated as cancelled by default and the candidate will be out of CSAS-2022. If a candidate does not upgrade, his/her previous seat admission will be retained. The candidate who has enrolled in the allotted seat and wants to continue should switch the 'Freeze' on through his/her dashboard. After selecting 'Freeze' the candidate will not be allowed to opt for "Upgradation".

 

The following rules have also been provided for breaking the tie in the event of a tie. High percentage of aggregate marks in the best 3 subjects of class XII under these; Higher percentage of aggregate marks in the best 4 subjects of class XII; The top 5 subjects of class XII include the higher percentage of aggregate marks and the age of the candidate. Prof. Harneet Gandhi informed that after the completion of the regular CSAS-2022 round, if the seats remain vacant, the university may announce the spot round of admission.

 

There is also a provision for mid-entry.

Delhi University is also making provision for mid-entry for the candidates who have failed to apply for CSAS-2022 due to any reasons within the stipulated time. Such candidates can participate in CSAS-2022 by paying Rs 1000 as mid-entry fee. However, mid entry admission can be considered only if all those candidates who have already applied have been allotted seat and were allotted qualifying marks more than the minimum declared score. Mid-entry admission will not be allowed for performance-based programs like (BA (BA) Hons) Music, BSc Physical Education, Health Education & Sports), ECA and Sports Supernumerary quota.

 

Seat Allocation in Performance-Based Programs

For seat allocation in Performance-based Programs, 50% weightage will be given to the CUET score and 50% to Performance Test Score. For admission under ECA, and Sports Supernumerary Quotas, 25% weightage will be given to the CUET score and 75% to certificates and trials. For both ECA and Sports, the certificates issued between the time period of 1st April 2017–30thJune2022 will be considered.For admissions to ECA and Sports Supernumerary Quota, Combined ECA Merit (CEM) and Combined Sports Merit (CSM) will be the basis for seat allocation.

 

There will be additional allocation in the first round

Delhi University has also decided that in the first round of seat allotment, each program in each college will have an additional 20% allocation in UR, OBC-NCL, EWS categories and 30% in SC, ST, PWBD categories. Dean Admission Prof. Haneet Gandhi advised the applicants to regularly visit the university's admission website and their dashboard for all the updates, schedules and guidelines regarding admission.

 

She said that applicants should be cautious and rely only on the information published on the official website of Delhi University (www.admission.uod.ac.in). For all authentic information, announcements and schedules, candidates should visit the official website of Delhi University and social media platforms only and also keep in mind that University mails only through email IDs of domains ending with "du.ac.in".

 

डीयू कुलपति प्रो. योगगेश सिंह ने लांच किया सीएसएएस-2022 पोर्टल

67 कॉलेजों के 79 यूजी प्रोग्रामों में होंगे दाखिले, तीन चरणों में चलेगी दाखिला प्रक्रिया

 

नई दिल्ली, 12 सितंबर।

दिल्ली विश्वविद्यालय ने शैक्षणिक स्तर 2022-23 के अपने यूजी प्रोग्रामों में सीयूईटी टेस्ट के माध्यम से दाखिलों के लिए पोर्टल लांच कर दिया है। सोमवार को डीयू कुपति प्रो. योगेश सिंह ने सीएसएएस-2022 (एलोकेशन-कम-एड्मिशन पोलिसिस) पोर्टल को लांच करते हुए बताया कि इस वर्ष 67 कॉलेजों/ विभागों/ केंद्रों में 79 यूजी प्रोग्रामों में दाखिले दिये जाने हैं जिनमें बीए प्रोग्रामों के लिए 206 संयोजन (कंबिनेशन) शामिल हैं। यह प्रक्रिया इसी पोर्टल के माध्यम से ही सम्पूर्ण होगी।

कुलपति प्रो. योगेश सिंह ने इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि देश भर से करीब 6 लाख 14 हजार विद्यार्थियों ने डीयू को अपनी प्राथमिकताओं में शामिल किया है। उन्होने बताया कि सीएसएएस-2022 तीन चरणों में आयोजित किया जाएगा जिसमें पहले चरण में दिल्ली विश्वविद्यालय में आवेदन करना होगा, दूसरे चरण में वरीयता भरना और तीसरे चरण में सीट आवंटन-सह-प्रवेश होगा।

कुलपति ने सीएसएएस-2022 पोर्टल को लांच करते हुए बताया कि रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया आज से शुरू हो गई है। उन्होने बताया कि हमारा प्रयास रहेगा कि स्पॉट राउंड से पहले दो अलाटमेंट राउंड रखे जाएँ ताकि किसी भी इच्छुक विद्यार्थी को दिक्कत न रहे। उन्होने आवेदकों से आह्वान किया वे अधिक से अधिक विकल्प भरें ताकि अपनी पसंद के कालेज व विषयों के अलाटमेंट में उन्हें कोई दिक्कत न आए। उन्होने कहा कि हमने पॉलिसी को इस प्रकार से बनाया है कि परेशानियों को कम से कम किया जा सके, इसके बावजूद भी हमने मिड एंट्री दाखिलों का भी प्रावधान किया ताकि किसी कारण वश जो आवेदक छुट गए हैं उनको भी मौका मिल सके।

कुलपति ने बताया कि ईसीए और स्पोर्ट्स कोटे के विद्यार्थियों के लिए ट्रायल 10 अक्तूबर के बाद होंगे और विद्यार्थियों की कक्षाएं संभवत: एक नवंबर से शुरू कर दी जाएंगी। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होने बताया कि रिजर्व कैटागिरी के दाखिलों को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन पूरी तरह से संजीदा है इसीलिए रिजर्व कैटेगीरी के लिए पहले राउंड में ही 30% अतिरिक्त दाखिलों का प्रावधान रखा गया है। इस अवसर पर उनके साथ दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ विकास गुप्ता, डीन एडमिशन प्रो. हनीत गांधी और पीआरओ अनूप लाठर मुख्य रूप से उपस्थित रहे।  

इस अवसर पर दिल्ली विश्वविद्यालय की डीन एडमिशन प्रो. हनीत गांधी ने दाखिला प्रक्रिया की विस्तार से जानकारी दी। उन्होने बताया पहले चरण के तहत सीएसएएस-2022 के लिए एससी, एसटी और पीडबल्यूबीडी वर्ग के आवेदकों के लिए 100 रुपए और यूआर, ओबीसी-एनसीएल, ईडब्ल्यूएस वर्ग के लिए 250 रुपए का एकमुश्त आवेदन शुल्क देना होगा जोकि नॉन-रिफ़ंडेबल होगा। दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने के इच्छुक उम्मीदवारों को सीएसएएस-2022 आवेदन पत्र के माध्यम से ही आवेदन करना होगा। सीएसएएस-2022 में आवेदन करने के लिए सीयूईटी (यूजी)-2022 की आवेदन संख्या अनिवार्य होगी। आवेदक द्वारा सीयूईटी (यूजी)-2022 के दौरान प्रस्तुत किए गए व्यक्तिगत विवरण जैसे नाम, फोटो और हस्ताक्षर आदि सीएसएएस-2022 में स्वतः एकीकृत हो जाएंगे।

उन्होने कहा कि उम्मीदवार अपने व्यक्तिगत विवरण, श्रेणियां/उप-श्रेणियां/जाति जमा करने में सावधानी बरतें क्योंकि एक बार सबमिट होने के बाद ये विवरण बदले नहीं जा सकेंगे। दिल्ली विश्वविद्यालय से सभी संचार केवल सीएसएएस-2022 आवेदन पत्र में भरी गई ईमेल आईडी पर ही किए जाएंगे। उम्मीदवारों को उन सभी विषयों के अंक भी सबमिट करने होंगे जिनमें उन्होंने बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण की है। उम्मीदवार बारहवीं कक्षा के अंक भरते समय अत्यधिक सावधानी बरतें क्योंकि यदि मेरिट टाई हो जाती है तो ये अंक उसको तोड़ने का आधार बनेंगे।

प्रो. गांधी ने बताया कि सीएसएएस का दूसरा चरण सीयूईटी (यूजी)-2022 के परिणाम घोषित होने के बाद शुरू होगा। इस चरण में, उम्मीदवारों को अपने प्रोग्राम और कॉलेज संयोजन का चयन करना होगा और अपनी वरीयताएँ भरनी होंगी। प्रोग्राम और कॉलेज संयोजन के चयन का क्रम भी सीटों के आवंटन के लिए वरीयता क्रम का निर्धारण करेगा। इसलिए, उम्मीदवार को वरीयता क्रम में प्रोग्राम और कॉलेज संयोजनों की वरीयता को ध्यान से प्राथमिकता देनी चाहिए। अंत में, उम्मीदवारों को वरीयता भरने के चरण के अंतिम दिन पर या उससे पहले 'सबमिट' पर क्लिक करके प्रोग्राम और कॉलेज संयोजनों के लिए वरीयता क्रम की पुष्टि करनी होगी। समय सीमा समाप्त होने के बाद प्रोग्राम और कॉलेज संयोजन वरीयता सूची के बदलाव की अनुमति नहीं दी जाएगी।

एक बार किसी विशेष राउंड में सीट आवंटित हो जाने के बाद, उम्मीदवार को दिए गए आवंटन राउंड के लिए निर्दिष्ट अंतिम तिथि/समय से पहले उसे आवंटित सीट को 'स्वीकार' करना होगा। किसी विशेष आवंटित सीट की स्वीकृति का प्रावधान केवल उसी दौर के लिए मान्य होगा जिसमें उम्मीदवार को सीट आवंटित की गई थी। आवंटित सीट के लिए गैर-स्वीकृति के रूप में कार्रवाई नहीं की जाएगी। इसे अनंतिम रूप से आवंटित सीट में डिकलाइन के रूप में माना जाएगा और उम्मीदवार अब सीएसएएस-2022 के बाद के दौर में भाग लेने में सक्षम नहीं होगा। यदि किसी उम्मीदवार को किसी विशेष राउंड में कई सीटों की पेशकश की जाती है, तो उसे केवल एक सीट को ही स्वीकार करना चाहिए। एक बार जब उम्मीदवार अनंतिम रूप से आवंटित सीट को "स्वीकार" कर लेता है, तो संबंधित कॉलेज उम्मीदवार द्वारा अपलोड की गई पात्रता और दस्तावेजों की जांच करेगा। सत्यापन के बाद, कॉलेज उम्मीदवार की अनंतिम रूप से आवंटित सीट को 'स्वीकृति' या 'अस्वीकार' करेगा। एक बार कॉलेज की मंजूरी के बाद, उम्मीदवार को 'प्रवेश शुल्क' का भुगतान करना होगा। प्रवेश शुल्क का सफल प्रेषण उम्मीदवार के आवंटित कॉलेज और प्रोग्राम में अनंतिम प्रवेश की पुष्टि करेगा।

अस्वीकृति, रद्दीकरण और नाम वापसी के कारण खाली हुई सीटों की उपलब्धता के आधार पर, विश्वविद्यालय कई आवंटन राउंड घोषित कर सकता है। प्रत्येक आवंटन राउंड से पहले विश्वविद्यालय अपनी दाखिला वेबसाइट (admission.uod.ac.in) पर रिक्त सीटों को प्रदर्शित करेगा। सीएसएएस -2022 के लिए आवेदन करने वाले सभी उम्मीदवार सभी आवंटन राउंड के लिए पात्र होंगे, सिवाय उन आवेदकों के जिनकी आवंटित सीट/ दाखिला किसी भी कारण से रद्द कर दिया गया हो। जो उम्मीदवार "अपग्रेड" का विकल्प चुनते हैं, उन पर सीटों की उपलब्धता के अनुसार बाद के सीएसएएस-2022 आवंटन राउंड में विचार किया जाएगा। विश्वविद्यालय ने ऐसा प्रावधान भी किया है जिसके माध्यम से आवेदक अनुमोदन के दौरान कॉलेज द्वारा उठाए गए किसी भी प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं।

अपग्रेड किए गए उम्मीदवार को अपग्रेड की गई सीट को 'स्वीकार' करना होगा और अपग्रेड आवंटित सीट पर प्रवेश प्रक्रिया पूरी करनी होगी। यदि कोई उम्मीदवार अपग्रेड की गई सीट पर कोई गतिविधि नहीं करता है, तो इसे डिफ़ॉल्ट रूप से रद्द माना जाएगा और उम्मीदवार सीएसएएस-2022 से बाहर हो जाएगा। यदि कोई उम्मीदवार अपग्रेड नहीं होता है, तो उसकी पिछली सीट पर प्रवेश बरकरार रखा जाएगा। जिस उम्मीदवार ने आवंटित सीट पर दाखिला ले लिया हो और इसे जारी रखना चाहता है, उसे अपने डैशबोर्ड के माध्यम से 'फ्रीज' को स्विच करना चाहिए। 'फ्रीज' का चयन करने के पश्चात उम्मीदवार को "अपग्रेडेशन" का विकल्प चुनने की अनुमति नहीं मिलेगी।

टाई की स्थिति में उसे तोड़ने के लिए निम्नलिखित नियमों का प्रावधान भी किया गया है। इनके तहत बारहवीं कक्षा के सर्वश्रेष्ठ 3 विषयों में कुल अंकों का उच्च प्रतिशत; बारहवीं कक्षा के सर्वश्रेष्ठ 4 विषयों में कुल अंकों का उच्च प्रतिशत; बारहवीं कक्षा के सर्वश्रेष्ठ 5 विषयों में कुल अंकों का उच्च प्रतिशत व उम्मीदवार की आयु को शामिल किया गया है। प्रो. हरनीत गांधी ने बताया कि नियमित सीएसएएस-2022 राउंड के पूरा होने के बाद, यदि सीटें खाली रहती हैं, तो विश्वविद्याय प्रवेश के स्पॉट राउंड की घोषणा कर सकता है।

मिड-एंट्री का भी है प्रावधान

निर्धारित समय के दौरान किन्ही कारणों से सीएसएएस-2022 के लिए आवेदन करने में विफल रहे उम्मीदवारों के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय मिड-एंट्री का प्रावधान भी कर रहा है। ऐसे उम्मीदवार सीएसएएस-2022 में मिड-एंट्री शुल्क के रूप में 1000 रुपये का भुगतान करके भाग ले सकते हैं। हालांकि, मिड एंट्री एडमिशन के लिए केवल तभी विचार किया जा सकता है जब उन सभी उम्मीदवारों के सीट आवंटन हो चुके हों जिन्होंने पहले आवेदन किया था और न्यूनतम घोषित स्कोर से अधिक योग्यता अंक आवंटित किए गए थे। (बी.ए. (बी.ए.) ऑनर्स) म्यूजिक, बीएससी फिजिकल एजुकेशन, हेल्थ एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स), ईसीए और स्पोर्ट्स सुपरन्यूमेरी कोटा जैसे प्रदर्शन-आधारित प्रोग्रामों के लिए मिड एंट्री प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी।

प्रदर्शन-आधारित प्रोग्रामों में सीट आवंटन

प्रदर्शन-आधारित प्रोग्रामों में सीट आवंटन के लिए 50% सीयूईटी स्कोर से और 50% वेटेज प्रफ़ोर्मेंस टेस्ट स्कोर से दिया जाएगा। ईसीए और स्पोर्ट्स सुपरन्यूमेरी कोटा के तहत प्रवेश के लिए 25% सीयूईटी स्कोर और 75% वेटेज सर्टिफिकेट और ट्रायल को दिया जाएगा। ईसीए और खेल दोनों के लिए 1 अप्रैल 2017 से 30 जून 2022 की समयावधि के बीच जारी किए गए प्रमाणपत्रों पर ही विचार किया जाएगा। ईसीए और स्पोर्ट्स सुपरन्यूमेरी कोटा में प्रवेश के लिए सीट आवंटन का आधार संयुक्त ईसीए मेरिट (सीईएम) और संयुक्त स्पोर्ट्स मेरिट (सीएसएम) के अनुसार होगा।

पहले राउंड में होंगे अतिरिक्त एलोकेशन

दिल्ली विश्वविद्यालय ने यह भी निर्णय लिया है कि सीट आवंटन के पहले दौर में प्रत्येक कॉलेज के प्रत्येक प्रोग्राम में यूआर, ओबीसी-एनसीएल, ईडब्ल्यूएस श्रेणियों में 20% और एससी, एसटी, पीडब्ल्यूबीडी श्रेणियों में 30% अतिरिक्त एलोकेशन (आवंटन) किया जाएगा। डीन एडमिशन श्रीमती डॉ. हनीत गांधी ने आवेदकों को सलाह दी कि वे प्रवेश से संबंधित सभी अपडेट, शेड्यूल और दिशानिर्देशों के लिए नियमित रूप से विश्वविद्यालय की प्रवेश वेबसाइट और उनके डैशबोर्ड को देखते रहें।

उन्होने कहा कि आवेदक सतर्क रहें और केवल दिल्ली विश्वविद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट (www.admission.uod.ac.in) पर प्रकाशित जानकारी पर ही भरोसा करें। सभी प्रामाणिक सूचनाओं, घोषणाओं और कार्यक्रम के लिए उम्मीदवारों को केवल दिल्ली विश्वविद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जाना चाहिए। ध्यान रखें कि विश्वविद्यालय केवल "du.ac.in" के साथ समाप्त होने वाले डोमैन की ईमेल आईडी के माध्यम से मेल करता है।

 

 

 

Please activate JavaScript in your browser.

» Sitemap